Articles

Microbeads: A Brewing Environmental Concern

26 Apr 2022 | Nikhil Prakash| | Krishnapriya Nair

The prevalence of microplastics in the environment has become a major global concern. Plastics based on their size are broadly classified as Macro and Microplastics (<5 mm) and enter the environment through various routes.

A link towards integrating informal sector may complete the EPR mechanism

26 Apr 2022

India generates close to 3.46 million tonnes of plastic waste annually and CPCB estimates suggest close to 60% of this waste is recycled.

नए प्लास्टिक नियमों के ठोस निष्पादन से हो सकता है कचरा प्रबंधन में सुधार

10 Nov 2021 | Mr Nikhil Prakash

सरकार की इतनी बड़ी मात्रा में जमा हो रहे कचरे से निपटने की प्रतिबद्धता का पता प्लास्टिक अपशिष्ट प्रबंधन नियम 2016 से चलता है जिसमें सरकार ने अगस्त 2021 में तीसरी बार संशोधन किया है। अगस्त 2021 में भारत सरकार द्वारा किए गए संशोधन से यह पता लगता है कि भारत इस मुद्दे का समाधान खोजने के लिए नए-नए प्रयास कर रहा है। हालांकि इस मामले में राजनीतिक सहमति के साथ-साथ नीतिगत हस्तक्षेपों के नतीजे सकारात्मक रहे हैं, लेकिन नीतियों का जमीनी स्तर पर निष्पादन अब भी एक बड़ी चुनौती बना हुआ है।

A Sustainable Development Agenda: Plastic and Biomedical Waste Post COVID-19

24 Feb 2021 | Dr Girija K Bharat| | Mr Hans Nicolai Adam| | Ms Emmy Noklebye

In this article, Hans Nicolai Adam, Emmy Noklebye, and Girija K Bharat discuss biomedical and plastic waste management in the post COVID-19 world. The authors focus on the role of the informal sector, which plays a significant role in India's waste management systems, and is assuming a growing role in plastic waste management. Yet, the informal waste management sector remains highly vulnerable, as evidenced by the authors' study.

TERI's Waste NAMA project collaborates with The Goan to spread awareness in Panaji

06 Aug 2020

GIZ India and TERI under the Indo-German project titled 'Development and Management of Waste NAMA (Nationally Appropriate Mitigation Action) in India' have adopted the city of Panaji for pilot demonstration of better waste management practices.

प्लास्टिक कूड़े के ढेर बन रहे हैं हमारे समुद्र: मिलकर उठाने होंगे कदम

28 Jul 2020

महासागर सबसे बड़े डंपिंग ग्राउंड बन रहे हैं जिसमें हर साल एक मिलियन टन प्लास्टिक कूड़ा पहुँच रहा है। महासागरों में मौजूद लगभग 80 फीसदी कूड़ा, प्लास्टिक का कूड़ा है। इससे समुद्री आबादी जोखिम में है। प्लास्टिक कचरे का उचित प्रबंधन कर इसे रोका जा सकता है।

Reduce marine plastic litter now to turn challenges into opportunities

27 Jul 2020

Marine plastic litter is a global result of our local actions and inactions. The focus should not only be on removing plastic but also on the creation of economic models, development of strategies, and proper prediction of future consumption patterns.

Creating awareness among school children for leveraging the use of treated wastewater in India

16 Apr 2020

The per capita water availability depends upon the population of the country and with the increasing population; the per capita availability of India is reducing and is expected to reach 1,367 cubic meters in 2021. As per Niti Aayog, 21 major cities (including Delhi, Bengaluru, Chennai, and Hyderabad) are racing towards zero groundwater levels, affecting access for 100 million people. In such a situation we need to look for alternate sources of water to meet our ever-increasing demands as water conservation and efficient use will not suffice.

क्या कोरोना के कहर से बच पाएंगे रिसाइक्लिंग से जुड़े अनौपचारिक क्षेत्र के कूड़ा इकठ्ठा करने वाले लोग?

02 Apr 2020 | Mr Nirbhay Kumar Singh

कोरोना वायरस की इस वैश्विक आपदा में न सिर्फ़ कूड़ा प्रबंधन की बल्कि अनौपचारिक क्षेत्र से जुड़े कचरा इकठ्ठा करने वाले लोगों की दशा दयनीय है। कचरा प्रबंधन के इस दौर में, भारत में लगभग 40 लाख अनौपचारिक कूड़ा इकठ्ठा करने वाले हैं। जहाँ भारत की राजधानी दिल्ली में अकेले ही लगभग 5 लाख अनौपचारिक कूड़ा इकठ्ठा करने वाले रहते हैं, वही भारत के प्राचीन शहर वाराणसी में ये लोग लगभग 12000 हैं जो कि इस अचानक से हुए लॉकडाउन में यथा स्थिति में फंसे हुए हैं।