TERI हिंदी

एक सूर्य, एक दुनिया और एक ग्रिड - भविष्य की तैयारी के लिए ज़रूरी

Press Release |
February 12, 2021

नई दिल्ली, 11 फरवरी, 2021: वर्ल्ड सस्टेनेबल डेवलपमेंट समिट के दूसरे दिन आयोजित हुई मुख्य इवेंट में लॉर्ड अडैर टर्नर, चेयर, एनर्जी ट्रांसिशन्स कमीशन, ने कहा," भारत और पूरी दुनिया में अक्षय ऊर्जा की क्षमता बढ़ाने और उसे स्थापित करने के लिहाज से बहुत तेज़ प्रगति हुई है। देश और कंपनियां नेट जीरो की तरफ कदम बढ़ रहे हैं। विकसित देशों ने 2050 तक नेट जीरो होने की तरफ अपनी प्रतिबद्धता ज़ाहिर की है और विकाशील देशों ने 2060 ये सब दिखाता है कि हमे जीरो कार्बन इकॉनमी कैसे विकसित करनी है।"

क्लाइमेट चेंज से लड़ाई क्लाइमेट जस्टिस के रास्ते से गुज़रती है: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

Press Release |
February 10, 2021

नई दिल्ली, 10 फरवरी, 2021: द एनर्जी एंड रिसोर्सेज इंस्टीट्यूट (TERI) के फ्लैगशिप इवेंट, वर्ल्ड सस्टेनेबल डेवलपमेंट समिट (WSDS) के बीसवें संस्करण का उद्घाटन भारत के प्रधानमंत्री माननीय श्री नरेंद्र मोदी द्वारा, 10 फ़रवरी 2021 को 1830 hrs IST बजे किया गया।

WSDS का आयोजन पूरी तरह से 10-12 फरवरी, 2021 के बीच ऑनलाइन किया किया जा रहा है। इस समिट में जलवायु परिवर्तन के खिलाफ लड़ाई में नेता, जलवायु वैज्ञानिक, युवा, शिक्षाविद एक साथ जुट रहे हैं। ग्लोबल साउथ से युवाओं और महिलाओं की आवाज़ को आगे रखते हुए की जाने वाली यह चर्चा ग्लास्गो में होने वाले COP26 में योगदान देगी

वेटलैंड्स: एक बहुमूल्य प्राकृतिक सम्पदा

Article |
February 2, 2021

आज वर्ल्ड वेटलैंड्स डे है। दुर्लभ, लुप्तप्राय प्रजातियों, बाढ़ नियंत्रण, जलवायु परिवर्तन के प्रभाव को कम करने में वेटलैंड्स का बड़ा महत्व है लेकिन बढ़ते शहरीकरण, बाँध निर्माण, जलाशयों में अपशिष्ट के प्रवाह के कारण ये वेटलैंड नष्ट हो रहे हैं।

प्रदूषण में कमी के बावजूद लॉकडाउन के दौरान दिल्ली की वायु गुणवत्ता रही सामान्य स्तर से अधिक: TERI

Press Release |
February 2, 2021

रिपोर्ट के मुताबिक, लॉकडाउन के दौरान बॉयोमास के जलने और उद्योगों जैसे क्षेत्रीय स्रोतों ने दिल्ली के वायु प्रदूषण में अपना योगदान दिया।

नई दिल्ली, 02 फरवरी, 2021: लॉकडाउन के दौरान दिल्ली में CPCB के 32 मॉनिटरिंग स्टेशनों के सांख्यिकीय विश्लेषण बताते हैं कि साल 2020 में पिछले साल के मुक़ाबले पार्टिकुलेट मैटर 2.5 (PM2.5) में 43 फीसदी और नाइट्रोजन ऑक्साइड्स (NOx) में 61 फीसदी की कमी हुई है। ये गिरावट दिल्ली के वायुमंडल में हवा की रफ़्तार कम होने के बावजूद दर्ज की गई है।

हर घर जल: चुनौतियाँ और अवसर

Article |
December 17, 2020

पेयजल आपूर्ति में भारत का अनुभव नया नहीं है। जल जीवन मिशन कार्यक्रम से पहले, ग्रामीण घरों में पेयजल आपूर्ति प्रणाली के प्रावधान में एक बड़ी राशि खर्च की गई थी। 'जल जीवन मिशन' के लिए वित्त वर्ष 2020-21 के बजट में 11,500 करोड़ रुपये रुपए आवंटित किए हैं। इस कार्यक्रम को एक बड़ी सफलता बनाने के लिए कुछ महत्वपूर्ण मुद्दों को जल्द हल किया जाना चाहिए।

हाथियों के डर से बेख़ौफ़ हुए असम के गाँव: सोलर ने दी आज़ादी

Article |
October 8, 2020

सौर स्ट्रीट लाइट से असम के गाँव में रहने वाले इन लोगों की ज़िंदगी में बदलाव आए हैं। गाँव में नई दुकानें खुल गयी हैं। जिससे लोगों को रोज़गार के अवसर भी मिले हैं। महिलाएं सुरक्षित महसूस करती हैं।

भारत के जलवायु संबंधी लक्ष्य: तकनीकी समाधान और बाधाएं

Article |
September 10, 2020

द नॉर्वेजियन मिनिस्ट्री ऑफ फॉरेन अफेयर्स (एमएफए) और द एनर्जी एंड रिसोर्सेज इंस्टीट्यूट (TERI) के बीच फ्रेमवर्क एग्रीमेंट (एनएफए) के तहत, जलवायु परिवर्तन के समाधान ढूंढने के लिए, भारत के प्रासंगिक एनर्जी-इंटेसिव सेक्टर के लिए एक व्यापक शोध अध्ययन के बाद डेटाबेस विकसित किया गया है।

आतंकवाद, महामारी और जलवायु परिवर्तन बहुपक्षवाद के सामने असल चुनौतियां: डॉ एस जयशंकर

Press Release |
August 28, 2020

टेरी के 19 वें दरबारी सेठ मेमोरियल लेक्चर में बोलते हुए, भारत के विदेश मंत्री डॉ एस जयशंकर और संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने जलवायु कार्रवाई और सतत विकास के लिए वैश्विक सहयोग के अवसरों के बारे में बात की।

रात के अँधेरे में हमारे घर सोलर से चमकते हैं

Videos |
August 26, 2020

बिजली का गायब हो जाना, देश के गाँव और शहरों की कई जगहों का अँधेरे में डूब जाना आम है। कई जगहों पर सिर्फ़ 6 से 7 घंटे ही बिजली रहती है। कुछ लोगों ने इस समस्या से निपटने के लिए सौर ऊर्जा का सहारा लिया। देखिए एक ऐसी कॉलोनी की कहानी जहाँ लोगों ने सोलर प्लांट को अपना कर बिजली की समस्या को दूर किया।

नौकरियों और स्थायी आजीविका को पुनर्जीवित करने के लिए टेरी द्वारा प्रस्तावित ग्रीन स्टिमुलस

Press Release |
August 25, 2020

यह परिचर्चा पत्र उन छह क्षेत्रों पर ध्यान आकर्षित करता है जो अक्षय ऊर्जा के विकास में तेज़ी और हवा की गुणवत्ता में सुधार ला सकते हैं।

नई दिल्ली, 24 अगस्त 2020: द एनर्जी एंड रिसोर्सेज इंस्टीट्यूट (टीईआरआई) ने भारतीय अर्थव्यवस्था को पुनर्जीवित करने के लिए 'ए फिस्कली रिस्पॉन्सिबल ग्रीन स्टिमुलस' नामक एक परिचर्चा पत्र जारी किया, जिसमें न्यूनतम सरकारी खर्च से रोज़गार और मांग पैदा की जा सकती है।