TERI हिंदी

वायु प्रदूषण से बचने के विकल्पों को प्राथमिकता देने की सख्त ज़रूरत

Article |
December 17, 2019

पिछले महीने उत्तर भारत में वायु प्रदूषण असहनीय स्तर पर पहुंच गया था। ज़हरीली हवा को देखते हुए दिल्ली-एनसीआर में जन स्वास्थ्य आपातकाल की घोषणा कर दी गयी थी। निर्माण कार्यों और पूरी ठंड के दौरान पटाखे फोड़ने पर प्रतिबंध लगा दिया गया। पर वायु प्रदूषण की समस्या सिर्फ़ दिल्ली तक ही सीमित नहीं है। भारत के दूसरे शहर भी वायु प्रदूषण से हांफ रहे हैं। दिल्ली के पड़ोसी राज्य उत्तरप्रदेश के प्रयागराज (इलाहबाद), कानपुर, आगरा, और लखनऊ भी प्रदूषित शहरों की श्रेणी में आते हैं।

भारत की हवा को स्वच्छ करने की दिशा में टेरी का 10 पॉइंट एक्शन प्लान

Infographics |
December 6, 2019

सरकार ने जनवरी 2019 में पंच वर्षीय राष्ट्रीय स्वच्छ वायु कार्यक्रम (NCAP) की शुरुआत की, जिसमें 2017 को आधार वर्ष मानकर PM2.5 और PM10 को 20-30 प्रतिशत घटाने का लक्ष्य रखा गया था। द एनर्जी एंड रिसोर्सेज इंस्टीट्यूट (TERI) के वायु गुणवत्ता डेटा के हालिया विश्लेषण से यह पता चलता है कि इस दिशा में सकारत्मकता नज़र आ रही है, लेकिन राष्ट्रीय स्वच्छ वायु कार्यक्रम को मज़बूत करने के लिए कई उपायों की आवश्यकता है। टेरी ने एनसीएपी की महत्वकाँक्षा को और आगे बढ़ाने के लिए सिफारशें प्रस्तुत की हैं. भारत की हवा को साफ़ करने के लिए 10 सुझाव वाले एक्शन प्लान के बिंदु निचे दिए गए हैं|

समाधान नहीं है मास्क-एयर प्यूरीफायर: 'टेरी' महानिदेशक डॉ. अजय माथुर

Article |
November 15, 2019

इंटरव्यू:'ऑड-इवन से लेकर पराली तक के विकल्प बता रहे हैं 'टेरी' महानिदेशक डॉ. अजय माथुर

सर्दियों में बढ़ने वाले पीएम 2.5 के स्तर को 46% तक कम किया जाना संभव, प्रदूषण के पीक और नॉन -पीक स्त्रोतों को कम करना होगा:टेरी

Press Release |
November 13, 2019

नई दिल्ली नवंबर 13, 2019: हर साल सर्दियों के दौरान बिगड़ती वायु प्रदूषण की समस्या को हल करने के लिए द एनर्जी एंड रिसोर्सेज इंस्टिट्यूट (TERI) ने एक रणनीतिक योजना तैयार की है । द नेचुरल रिसोर्सेज डिफेंस कॉउंसिल(NRDC ) के सह-आयोजन में हुए सस्टेनेबल डायलॉग ऑन एयर पॉल्यूशन पर बोलते हुए टेरी के महानिदेशक डॉ अजय माथुर ने कहा, "दिल्ली में वायु प्रदूषण की समस्या का हल निकाला जा सकता है । इसके लिए टेक्नोलॉजी भी है और उसकी लागत के समाधान भी। दिल्ली की वायु गुणवत्ता में सुधार के लिए पीक और नॉन-पीक प्रदूषण स्रोतों पर ध्यान दिया जाना आवश्यक है और टेरी वायु प्रदूषण स्त्रोतों के इन निश्चित

ग्रीन बिल्डिंग मूवमेंट - बढ़ते प्रदूषण के खिलाफ़ और पर्यावरण का दोस्त

Article |
November 13, 2019

भारत कार्बन डाई ऑक्साइड गैस उत्सर्जन के मामले में दुनिया के अग्रणी देशों की श्रेणी में शामिल है। कार्बन डाइऑक्साइड उत्सर्जन की बढ़ती समस्या में बिल्डिंग निर्माण की भी एक बड़ी भूमिका है। एक अनुमान के अनुसार वर्ष 2025 तक भारत कंस्ट्रक्शन क्षेत्र में विश्व में तीसरे स्थान पर होगा। आज पूरी दुनिया जलवायु परिवर्तन से जुड़ी चुनौतियों का सामना कर रही है। जलवायु परिवर्तन से पैदा हुई समस्याओं से निपटने के लिए भारत के कुछ समूह ग्रीन बिल्डिंग मूवमेंट को बढ़ावा दे रहे हैं और इन मूवमेंट में से एक है- ग्रीन रेटिंग फॉर इंटीग्रेटेड हैबिटैट असेसमेंट (GRIHA)।

रूफटॉप सोलर - अपने बिजली के बिलों को कम करें और पर्यावरण बचाएं

Article |
November 6, 2019

सूरत, नई दिल्ली और अन्य शहरों में उपभोक्ताओं ने सोलर रूफटॉप को अपनाकर अपने बिजली के बिलों को कम किया है और साथ ही भारत के नवीकरणीय ऊर्जा लक्ष्यों को पूरा करने में भी मदद की है।

ज़हरीली हवा से बचने के निजी उपाय जानिए

Article |
November 6, 2019

दिल्ली एक बार फिर से ज़हरीली हवा की चपेट में हैं। दिल्ली सरकार ने वायु प्रदूषण की इस समस्या से निपटने के लिए एडवाइजरी जारी की है। लेकिन इससे निपटने के लिए आमजन को भी अपनी भूमिका निभानी होगी।

हरित एजेन्डा: भारत में वायु को स्वच्छ करना

Article |
July 2, 2019
The true extent of air pollution in India may become more evident when air quality monitoring is expanded to cities where it isn’t yet conducted.

हरित एजेन्डा: भारत की पानी की स्थिति में सुधार करना

Article |
July 2, 2019
Falling water levels and poor water quality point towards a grave future.

हरित एजेन्डा: अपशिष्ट या कचरे को संपत्ति में बदलना

Article |
July 2, 2019
In India, packaging plastics constitute around 43% of total plastic demand.