TERI हिंदी

समानता और जलवायु न्याय किसी भी वैश्विक जलवायु प्रतिक्रिया के लिए महत्वपूर्ण: भूपेंद्र यादव, केंद्रीय पर्यावरण मंत्री, एमओईएफसीसी, CO26 चार्टर फॉर एक्शन्स राष्ट्रीय सम्मेलन, टेरी

Press Release |
October 18, 2021

नई दिल्ली, अक्टूबर 13, 2021: माननीय केंद्रीय पर्यावरण मंत्री, पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय, भारत सरकार, श्री भूपेंद्र यादव ने वीडियो संबोधन के ज़रिए COP26 चार्टर ऑफ एक्शन पर राष्ट्रीय सम्मेलन में मुख्य अतिथि के रूप में कहा, "समानता और जलवायु न्याय किसी भी वैश्विक जलवायु प्रतिक्रिया के लिए आवश्यक।"

पराली प्रदूषण - सटीक नीति से होगा हल

Article |
October 7, 2021

- उपयुक्त कम पानी वाली फसलों को बढ़ावा देकर धान की अंधाधुंध खेती पर लगाम लगाई जा सकती है - धान की ऐसी प्रजातियों को प्रोत्साहित करें जो समय और पानी दोनों कम लेती हैं - ऐसी कंबाइन हार्वेस्टर मशीनें विकसित की जाएं जो धान निकालते वक्त पराली भी खेत से हटा लें तो पराली किसानों के लिए अतिरिक्त आय का साधन हो सकता है

फूलों की घाटी और कचरे का ढेर

Basic page |
October 1, 2021
.item>a>img, .carousel-inner>.item>img, .img-responsive, .thumbnail a>img, .thumbnail>img { display: block; max-width: 100%; height: auto; margin: 0 auto !important; } /*-->*/ /*-->*/ भारत की दूसरी सबसे ऊंची चोटी नन्दा देवी की ऊंचाई 7816 मीटर है। यह उत्तराखंड के चमोली जिले में नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान में स्थित है।यह दुनिया के सबसे अधिक जैव विविधता वाले क्षेत्रों में से एक है। वर्ष 1982 में इस क्षेत्र में वनस्पतियों और जीवों के संरक्षण और इसे

टेरी वर्ल्ड एडेप्टेशन साइंस प्रोग्राम (डब्ल्यूएएसपी) के साथ 4 से 8 अक्टूबर, 2021 को एडेप्टेशन फ्यूचर्स सम्मेलन की सह-मेजबानी करेगा

Press Release |
September 29, 2021

नई दिल्ली, 29 सितंबर, 2021: द एनर्जी एंड रिसोर्सेज इंस्टीट्यूट (टीईआरआई) ने बुधवार को 4 से 8 अक्टूबर, 2021 तक होने वाले एडेप्टेशन फ्यूचर्स सम्मेलन के पूर्व-कार्यक्रम के रूप में एक व्यक्तिगत प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित की।

टिकाऊ जीवनशैली जरूरी, उपभोक्तावाद के तौर-तरीके पर्यावरण के लिए गंभीर खतरा: भूपेंद्र यादव

News |
August 24, 2021

टिकाऊ जीवनशैली जरूरी, उपभोक्तावाद के तौर-तरीके पर्यावरण के लिए गंभीर खतरा: भूपेंद्र यादव

ध्यान रखना, कहीं धरती का हाल ईस्टर आइलैंड जैसा न हो जाए

Article |
June 15, 2021

आप अपनी संतानों से प्रेम करते हैं न, तो ये ईंट पत्थर के बंगले काम न आएंगे जिसे आप जोड़ रहे …काम आएगी शुद्ध हवा, साफ पानी, हरे जंगल, चहकते पक्षी…खेलते हिरण…झपटते शेर…यानी सम्पूर्ण जैवविविधता…!!!

वो कार्बन जो जलवायु परिवर्तन से लड़ने के लिए है ज़रूरी

Videos |
June 8, 2021

कोस्टल इकोसिस्टम हमारी धरती के सबसे बड़े कार्बन स्टोरहॉउस हैं। लेकिन मानवीय गतिविधियों और भूमि उपयोग में बदलाव की वजह से ये खतरे में हैं। भारत की जलवायु परिवर्तन से निपटने की मुहीम में ब्लू कार्बन की भूमिका पर ध्यान देना ज़रूरी है।

लखनऊ में भूमिगत जल का दोहन मौजूदा रिचार्ज की तुलना में 17 गुना अधिक, टिकाऊ प्रबंधन की सख़्त ज़रूरत: टेरी

Press Release |
June 4, 2021

4 जून, 2021, नई दिल्ली: लखनऊ शहर पूर्व-मानसून अवधि में अपने भूमिगत जल सिस्टम में, वर्षा और गोमती नदी से होने वाले कुल रिचार्ज के मुकाबले, लगभग सत्रह गुना अधिक भूमिगत जल का दोहन कर रहा है। अगर ये दोहन इसी दर से चलता रहा तो साल 2031 तक मध्य लखनऊ के प्रमुख मोहल्लों में भूमिगत जल का स्तर वर्तमान स्तर से 20-25 मीटर नीचे चले जाने का अनुमान है। ये निष्कर्ष नई दिल्ली स्थित द एनर्जी एंड रिसोर्सेज इंस्टीट्यूट (टेरी) और दिल्ली विश्वविद्यालय के भूविज्ञान विभाग के साथ मिलकर किए गए एक अध्ययन में सामने आए हैं। इस अध्ययन को उत्तर प्रदेश भूमिगत जल विभाग, लखनऊ ने विश्व बैंक के सहयोग से प्राय

एक सूर्य, एक दुनिया और एक ग्रिड - भविष्य की तैयारी के लिए ज़रूरी

Press Release |
February 12, 2021

नई दिल्ली, 11 फरवरी, 2021: वर्ल्ड सस्टेनेबल डेवलपमेंट समिट के दूसरे दिन आयोजित हुई मुख्य इवेंट में लॉर्ड अडैर टर्नर, चेयर, एनर्जी ट्रांसिशन्स कमीशन, ने कहा," भारत और पूरी दुनिया में अक्षय ऊर्जा की क्षमता बढ़ाने और उसे स्थापित करने के लिहाज से बहुत तेज़ प्रगति हुई है। देश और कंपनियां नेट जीरो की तरफ कदम बढ़ रहे हैं। विकसित देशों ने 2050 तक नेट जीरो होने की तरफ अपनी प्रतिबद्धता ज़ाहिर की है और विकाशील देशों ने 2060 ये सब दिखाता है कि हमे जीरो कार्बन इकॉनमी कैसे विकसित करनी है।"

क्लाइमेट चेंज से लड़ाई क्लाइमेट जस्टिस के रास्ते से गुज़रती है: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

Press Release |
February 10, 2021

नई दिल्ली, 10 फरवरी, 2021: द एनर्जी एंड रिसोर्सेज इंस्टीट्यूट (TERI) के फ्लैगशिप इवेंट, वर्ल्ड सस्टेनेबल डेवलपमेंट समिट (WSDS) के बीसवें संस्करण का उद्घाटन भारत के प्रधानमंत्री माननीय श्री नरेंद्र मोदी द्वारा, 10 फ़रवरी 2021 को 1830 hrs IST बजे किया गया।

WSDS का आयोजन पूरी तरह से 10-12 फरवरी, 2021 के बीच ऑनलाइन किया किया जा रहा है। इस समिट में जलवायु परिवर्तन के खिलाफ लड़ाई में नेता, जलवायु वैज्ञानिक, युवा, शिक्षाविद एक साथ जुट रहे हैं। ग्लोबल साउथ से युवाओं और महिलाओं की आवाज़ को आगे रखते हुए की जाने वाली यह चर्चा ग्लास्गो में होने वाले COP26 में योगदान देगी