Lost & Found - द फ्यूचर वी वॉन्ट सीरीज़



दिल्ली से सटे फरीदाबाद में मांगर-बनी को एक पवित्र जंगल माना जाता है। इस जंगल से लोग जलाने के लिए लकड़ी भी नहीं काटते हैं और न ही अपने जानवरों को जंगल में चरने के लिए भेजते हैं। धीर धीरे यह जंगल निर्माण कंपनियों के आकर्षण का केंद्र बन गयी और ज़मीन के ख़रीदार यहाँ अपनी पैठ बनाने लगे। यहां के पेड़-पौधे भारत के राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के लिए स्वच्छ हवा देने का काम करते हैं, जो कि पहले ही दुनिया के सबसे प्रदूषित क्षेत्रों में से एक है। अगर निर्माण के लिए पेड़-पौधे काट दिए जाएंगे तो नुक्सान आम जन को ही होगा। देखिए कैसे एनसीआर का ऑक्सीजन कहे जाने वाले मांगरबनी के जंगल को बचाने की कोशिश कर रहा है यहाँ का गुज्जर समुदाय।

इस फिल्म का निर्माण "The Future We Want" नामक श्रृंखला के तहत किया गया है, यह शहरी भारत के उन व्यक्तियों और समुदायों पर नज़र डालती है, जो अपने तरीकों से हमें एक स्वच्छ और स्थायी भविष्य की राह दिखा रहे हैं।

Partners
M/o Information and Broadcasting
Stakeholders
Civil society/Grassroots
College student/Graduates
Consultants
Policy Makers
Researchers/Post graduates
Tags
Biodiversity
Community forest management
Environmental awareness
Forest biodiversity
Land acquisition
This block is broken or missing. You may be missing content or you might need to enable the original module.