Articles

खाद्य सुरक्षा संकट को मिटाना है तो पोषण, भुखमरी और सतत कृषि को एक साथ समझना ज़रूरी

25 Feb 2020

भारत की जनसंख्या अभी 1.04% की सालाना दर से बढ़ रही है। 2030 तक जनसँख्या 1.5 अरब तक पहुँचने का अनुमान है लेकिन इतनी बड़ी जनसँख्या का पेट भरने के लिए खाद्यान उत्पादन में अनेक समस्याएं हैं। जलवायु परिवर्तन न सिर्फ़ आजीविका, पानी की आपूर्ति और मानव स्वास्थ्य के लिए खतरा पैदा कर रहा है बल्कि खाद्य सुरक्षा के लिए भी चुनौती खड़ी कर रहा है। ऐसे में यह सवाल पैदा होता है कि क्या भारत जलवायु परिवर्तन के खतरों के बीच आने वाले समय में इतनी बड़ी जनसँख्या का पेट भरने के लिए तैयार है?

Keeping oceans healthy to keep the blue economy running

21 Feb 2020

The significance of oceans for the global economy is immense and the progress of blue economy will depend on the achievement of sustainable development

A story of disconnections: Civil unrest in Chile

20 Feb 2020 | Dr Paulina Lopez

From climate change to the lack of interdisciplinarity in academic and policy spaces — a natural scientist explores the unseen reasons behind the social unrest in Chile

TERI analyses NFHS-4 data for child morbidity and chronic illnesses

20 Feb 2020

It suggests three response strategies for accelerating improvements in child health and reducing risk of chronic morbidity.

Why Green Ratings for Buildings Matter?

18 Feb 2020

An exponential increase in the population over the past decade has led to the emergence of rapid urbanization as a key global trend of prominence and concern. It is expected that more than 40% of the Indian population will be dwelling in urban cities by 2030, and the total urban population of India is anticipated to hit the three quarters of a billion mark by 2050.

A family in Varanasi is turning garbage to gold

11 Feb 2020 | Ms Ankita Bhatia

In an era where only a few want to treat waste in their backyard, Kuldeep Choudhary’s family developed it into an amusing custom at Varanasi. The waste generated in the kitchen of their house like fruit and vegetable peels, leftover food, tea leaves, garden trimmings, etc. doesn’t add load to their waste bin anymore. They simply manage their wet waste at home by recovering nutrients and creating black gold called manure.

समुद्र में फैले प्लास्टिक प्रदूषण के खिलाफ एक पहल ''Rethink Plastic''

27 Jan 2020

भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद-केंद्रीय मत्स्य शिक्षा संस्थान (सीआईएफई), वर्सोवा के एक अध्ययन के अनुसार मुंबई के मछुवारे जब मछली पकड़ते हैं तो 17 किलोग्राम मछली के साथ 1 किलोग्राम प्लास्टिक भी साथ में आता है। ये वो प्लास्टिक है जो नदी, नालों और लोगों की लापरवाही की वजह से समुद्र में पहुँच रहा है।

अगले 10 साल हैं ज़रूरी: WSDS में होगी 2030 के लक्ष्यों को पूरा करने के लिए चर्चा

24 Jan 2020

20 देशों के प्रतिनिधि आएंगे साथ एक ही मंच पर वायु प्रदूषण, ई-गतिशीलता, नवीकरणीय ऊर्जा, ऊर्जा दक्षता, हरित वित्त, नीली अर्थव्यवस्था, टिकाऊ खपत, कई मुख विषयों पर होगी चर्चा। सतत विकास में योगदान की होगी पहचान, सस्टेनेबल डेवलपमेंट लीडरशिप अवार्ड से नवाज़ा जाएगा।

Changing role of chief sustainability officers in the services sector

22 Jan 2020 | Mr Mahesh Pratap Singh

The role of a sustainability officer, particularly in the services sector, becomes multi-dimensional as all players in the ecosystem have to be taken along